शनिवार, 11 जनवरी 2014

कोटा में सेवन वंडर पार्क से शहर पर्यटकों का आकर्षण का केंद्र

कोटा में सेवन वंडर पार्क 
कोटा। 2013 में बने 7 वंडर पार्क का निर्माण कोटा शहर के लिए एक नई देन है। कोटा शिक्षा के क्षेत्र में नालंदा कहलाने लगा है। यहाँ भारत के चारों ओर से शिक्षार्थी पढ़ने और कोचिंग लेने आते हैं। इंजीनियरिंग में आईआईटी और एआई ईईई व पीईटी व मेडिकल की परीक्षाओं की कोचिंग के लिए हर वर्ष लगभग डेढ़ से दो लाख शिक्षार्थी आते हैं। इसी क्रम में कई नई उप‍लब्धि कोटा ने और हासिल की है। 3 किलोमीटर के क्षेत्र में सी-बी- गार्डन में आम पर्यटकों के लिए चली ट्रेन, शहीद स्‍मारक पर हर दम फहराता तिरंगा,कोटा के नये चुम्‍बकीय शहर में घटोत्‍कच-कर्ण युद्ध का दृश्‍य झलकाता चौराहा।  भारत में केवल कोटा में 2007 में दुनिया को सात आश्‍चर्यों में शामिल ताजमहल सहित अन्‍य छह दुनिया के आश्‍चर्यों वाला सेवन वंडर पार्क, सरोवर में फैला मेगा फ्लोटिंग फाउंटेन्‍स आदि। आइये कोटा और देखिये उसे पर्दे पर। 
कर्ण घटोत्‍कच चौराहा 
चम्‍बल नदी में स्‍कींग का आनंद 



1 टिप्पणी:

  1. BEHAD KHUBSURAT- AVARNANEEY- CHITTAKARSHAK- ANUKARNEEY- SHIKSHAPRAD PRASTUTI, JISMEN SHRAM- LAGAN- NISHTHA- RUCHI- SRIJANATMAKTA - KUCHH NAYA KARNE KI SWABHAVIK LALAK EVAM ANYANYA SAKARATMAK IRADON KE APRATIM ABHUSHANON KI EK SATH - EK HI JAGAH AUR ANOKHI UPASTHITI DRISHTAVYA HAI. IS APRATIM KRITI KI PRASSANSHA KE LIYE SHABD KHOJANE KI MASAKKAT KE CHALTE BAS ITANA HI KI , AKUL TUM MAHAN BANO. SHABDON KE DHANWAN BANO.CHALE ANWARAT SAJAG SADHANA, DUNIYAAN KA SAMMAN BANO. - DR.RAGHUNATH MISHRA 'SAHAJ'

    उत्तर देंहटाएं