बुधवार, 21 सितंबर 2016

सान्निध्य: विश्व शांति दिवस, अहिंसा दिवस है आज

सान्निध्य: विश्व शांति दिवस, अहिंसा दिवस है आज: 19 सितम्‍बर 2016 को उड़ी में आतंकवादी घटना में मारे गये सैनिकों को श्रद्धांजलि देते सैनिक  विश्व शांति दिवस, अहिंसा दिवस है आज। ...

शनिवार, 20 अगस्त 2016

रविवार, 14 अगस्त 2016

सान्निध्य: 'आकुल' का नया गीत संग्रह 'नवभारत का स्‍वप्‍न सजाये...

सान्निध्य: 'आकुल' का नया गीत संग्रह 'नवभारत का स्‍वप्‍न सजाये...:

कलुष को बुुहारते गीत- भानु 'भारवि' नवभारत का स्‍वप्‍न सजायें एक गीतकार मानव मन की कोमल भावनाओं, सं...

सान्निध्य: सुरेश चंद्र सर्वहारा की नयी पुस्‍तक 'ढलती हुई धूप'...

सान्निध्य: सुरेश चंद्र सर्वहारा की नयी पुस्‍तक 'ढलती हुई धूप'...: जीने की लालसा जगाती ढलती हुई धूप जीने को मन करता ही है। मौन संदेश मिलते हैं, आँखे ढूँढती रहती है, छाँह, संतोष, आश्रय, सुरक्षा और बहाना...

शनिवार, 19 सितंबर 2015

साहित्‍य मंडल, नाथद्वारा का त्रिदिवसीय 'हिन्‍दी लाओ-देश बचाओ' समारोह स‍ाहित्‍यकारों का प्रशस्ति गान करते हुए हिन्‍दी को राष्‍ट्रभाषा प्रतिष्‍ठापित करने का संकल्‍प ले कर सम्‍पन्‍न हुआ

‘हिन्‍दी लाओ-देश बचाओ’ हुंकार के साथ प्रतिवर्ष की भाँति ‘हिन्‍दी दिवस’ के उपलक्ष्‍य में 14-15-16 सितम्‍बर, 2015 को श्रीनाथीजी की पावन नगरी नाथद्वारा में सन् 1937 से स्‍थापित नाथद्वारा साहित्‍य मण्‍डल द्वारा नाथद्वारा में त्रिदिवसीय साहित्यिक कार्यक्रम आयोजित हुए। भारत के लगभग सभी प्रान्‍तों से पधारे साहित्‍यकारों के हिन्‍दी के उन्‍नयन के लिए साहित्‍य सृजन करने पर उन्‍हें विभिन्‍न सम्‍मानों से सम्‍मानित किया गया ।
हिन्‍दी काव्‍य भूषण से सम्‍मानित हुए साहित्‍यकारों में
पीछे बायें से पाँचवे डा0 रघुनाथ मिश्र 'सहज'
       कोटा के चार साहित्‍यकारों यथा महावीर वर्धमान खुला विश्‍वविद्यालय की प्रोफेसर डा0 मीता शर्मा को हिन्‍दी भाषा भूषण, श्री जितेन्‍द्र निर्मोही को हिन्‍दी साहित्‍य विभूषण, वरिष्‍ठ जनकवि डा0 रघुनाथ मिश्र ‘सहज’ को हिन्‍दी काव्‍य भूषण और डा0 गोपाल कृष्‍ण भट्ट ‘आकुल’ को हिन्‍दी साहित्‍य भूषण की मानद उपाधि से सम्‍मानित किया गया। सम्‍मान स्‍वरूप सभी को शाल, उत्‍तरीय, श्रीनाथजी का चित्र, प्रशस्ति पत्र और श्रीनाथजी का प्रसाद भेंट स्‍वरूप प्रदान किया गया।
       श्रीनाथद्वारा के कवियों को नाथद्वारा रत्‍न और विभिन्‍न पत्र पत्रिकाओं के सम्‍पादकों को सम्‍पादक रत्‍न भी प्रदान किये गये। 
       कार्यक्रम 14 सितम्‍बर को साहित्‍यकारों, बच्‍चों, छात्रों, नागरिकों द्वारा हिन्‍दी को बढ़ावा देने के लिए हाथ में नारा लिखे पट़टों को लिये व नारा लगाते हुए नगर परिक्रमा से आरंभ हुए समारोह में साहित्‍य मंडल के डेढ़ लाख से भी अधिक पुस्‍तकों से सुसज्जित वाचनालय और पुस्‍तकालय का अवलोकन साहित्‍यकारों को करवाया गया। हिन्‍दी उपनिषद सत्र के दौरान दिनांक 14 और 16 सितम्‍बर को हिन्‍दी के विभिन्‍न विषयों यथा हिन्‍दी का बोधगम्‍य स्‍वरूप, हिंग्लिशि के दुष्‍परिणाम, राष्‍ट्रभाषा की अधिकारिणी है हिन्‍दी भाषा, क्‍या बलिदान से ही हिन्‍दी राष्‍ट्रभाषा पद पर प्रतिष्‍ठापित होगी, हिन्‍दी में मीडिया की भूमिका, हिन्‍दी की सामर्थ्‍य, राष्‍ट्रभाषा की वर्तमान स्थिति आदि पर अनेकों साहित्‍यकारों द्वारा आलेख प्रस्‍तुत किये गये। कोटा के साहित्‍यकार श्री रामेश्‍वर रामूभैया द्वारा ‘हिन्‍दी की अंतर्राष्‍ट्रीयता’ पर अपना आलेख प्रस्‍तुत किया गया ।
       इस समारोह  की प्रमुख विशेषता रही प्रत्‍येक साहित्‍यकार का उनके समग्र हिन्‍दी सेवा पर आधारित श्रीनाथद्वारा के आशुकवि और संचालक श्री विट्ठल पारीख द्वारा स्‍वरचित सस्‍वर प्रशस्ति गान।  
       विभन्नि साहित्‍यकारों, कवियों ने इस समारोह के लिए दिये गये हुंकृति विषयक छंदों ‘हिन्‍दी सबको प्‍यारी होगी,इसकी छवि उजियारी होगी’, ‘हिन्‍दी बने विश्‍व की भाषा, स्‍वाभिमान की है परिभाषा’, ‘सब मिल बोलें एक जुबान, जय हिन्‍दी जय हिन्‍दुस्‍तान’ और ‘हिन्‍दी है कर्म हमारा, हिन्‍दी है धर्म हमारा’ पर गीत, ग़ज़ल, गीतिका, कविता, कुण्‍डलिया, मुक्‍तक, दोहे आदि बोल कर अपने विचार व्‍यक्त किये।
       दिनांक 15 सितम्‍बर को सुबह के सत्र में ब्रजभाषा परिसंवाद और सायं ब्रजभाषा काव्‍य संध्‍या का आयोजन हुआ और रात्रि को पधारे सभी कवियों व साहित्‍यकारों की उपस्थित से अखिल भारतीय कवि सम्‍मेलन आयोजित हुआ।
       मंडल के प्रधानमंत्री संस्‍थापक अध्‍यक्ष स्‍व0 भगवती प्रसाद देवपुरा के पुत्र श्री श्‍याम प्रसाद देवपुरा द्वारा पधारे सभी साहित्‍यकारों का आभार प्रकट करते हुए सभी साहित्‍यकारों से हिन्‍दी को राष्‍ट्रभाषा के रूप में प्रतिष्‍ठापित करने का संकल्‍प ले कर अपनी सृजन यात्रा को आगे बढ़ाने के लिए आग्रह किया और आने वाले 7 मार्च, 2016 को मंडल के पाटोत्‍सव कार्यक्रम में आने के लिए आमंत्रित किया। 

बुधवार, 9 सितंबर 2015

साहित्‍य मंडल, नाथद्वारा का 'हिन्‍दी लाओ-देश बचाओ' समारोह 14-15-16 सितम्‍बर को नाथद्वारा में

अखिल भारतीय स्‍तर के लगभग 50 से अधिक साहित्‍यकारों का बृहद स्‍तर पर सम्‍मान, राजस्‍थान के 19 साहित्‍यकारों में कोटा के साहित्‍यकार श्री जितेंद्र निर्मोही, डा0 सहज व डा0 आकुल भी सम्‍मानित होंगे 
      कोटा। हिन्‍दी दिवस पर हर वर्ष आयोजित हिन्‍दी लाओ-देश बचाओ अभियान के अंतर्गत हर वर्ष की भाँति
इस वर्ष भी पुष्टिमागी्रय सम्‍प्रदाय की तीर्थभूमि नाथद्वारा (जिला राजसमन्‍द, राजस्‍थान) में 14 सितम्‍बर से 16 सितम्‍बर तक समारोह मनाया जा रहा है। स्‍मृतिशेष श्री भगवती प्रसाद देवपुरा के पु्त्र साहित्‍य मंडल के प्रधानमंत्री श्री श्‍याम देवपुरा द्वारा घोषित यह समारोह दिनांक 14 सितम्‍बर को नगर परिक्रमा से आरंभ हो कर 16 सितम्‍बर को मंडल की त्रैमासिक पत्रिका हरसिंगार के लोकार्पण के साथ समापन होगा। प्रत्‍येक दिन विभिन्‍न सत्रों में कार्यक्रम आयोजित होंगे।
      तीन दिवसीय इस समारोह में साहित्‍य मंडल माध्‍यमिक विद्यालय के बालक बालिकाओं द्वारा हिन्‍दी रानी नाटिका, ब्रजभाषा परिसंवाद समारोह, ब्रजभाषा काव्‍य संध्‍या, अखिल भारतीय कवि सम्‍मेलन, हरसिंगार त्रैमासिक पत्रिका का लोकार्पण और दूर दूर से पधारे साहित्‍यकारों, विभिन्‍न पत्र-पत्रिकाओं के सम्‍पादक व नाथद्वारा के विभिन्‍न समाजसेवको व साहित्‍यधर्मियों को मानद उपाधियों, प्रायोजित सम्‍मानों का वितरण आकर्षण का विषय रहेंगे। 
   इस दौरान 14 सितम्‍बर और 16 सितम्‍बर को साहित्‍यकारों द्वारा गद्य और पद्य में हिन्‍दी की महिमा और हिन्‍दी के विकास व वर्तमान में हिन्‍दी को राष्‍ट्रभाषा के लिए किये जा रहे प्रयासों पर चिन्‍तन मंथन भी होगा। विभिन्‍न्‍ा साहित्‍यकारों द्वारा हिन्‍दी उपनिषद् के अंतर्गत हिन्‍दी के बोधगम्‍य स्‍वरूप, भारतीय भाषायी एकता की प्रासंगितकता, हिन्‍दी की अंतर्राष्‍ट्रीयता, हिंग्लिश के दुष्‍परिणाम, हिन्‍दी में मीडिया की भूमिका, राष्‍ट्रभाषा की अधिकारिणी है हिन्‍दी, हिन्‍दी के प्रति राजकीय व्‍यवस्‍था की उदासीनता, राष्‍ट्रीय एकता में हिन्‍दी भाषा एवं देवनागरी लिपि की भूमिका, हिन्‍दी अस्मिता के सुलगते प्रश्‍न, राष्‍ट्रभाषा की वर्तमान स्थिति, हिन्‍दी और 29वीं सदी, शिक्षा में हिन्‍दी की पुनर्स्‍थापना, हिन्‍दी तथ्‍य एवं व्‍यवहार और दक्षिण भारत का हिन्‍दी की प्रगति में योगदान पर आलेख पढ़े जायेंगे। साथ ही 'हिन्‍दी हुंकृति' के अंतर्गत दिये गये छन्‍द विषय 'हिन्‍दी बने विश्‍व की भाषा, स्‍वाभिमान की है परिभाषा', 'हिन्‍दी सबाके प्‍यारी होगी, इसकी छवि उजियारी होगी', सब मिल बोलें एक जुबान, जय हिन्‍दी, जय हिन्‍दुस्‍तान' और 'हिन्‍दी है कर्म हमारा, हिन्‍दी है धर्म हमारा' पर साहित्‍यकारों द्वारा काव्‍य रचनायें भी प्रस्‍तुत की जायेंगी।
      साहित्‍य मंडल, नाथद्वारा द्वारा मुफ्त आवास व भोजन व्‍यवस्‍था रहेगी। विभिन्‍न साहित्‍यकारों को हिन्‍दी साहित्‍य शिरोमणि, हिन्‍दी साहित्‍य विभूषण, हिन्‍दी काव्‍य भूषण, हिन्‍दी साहित्‍य भूषण, हिन्‍दी भाषा भूषण और श्रीनाथद्वारा रत्‍न से सम्‍मानित किया जाएगा। कई नगद राशि से भी कई सम्‍मान विभिन्‍न विद्वानों को लंबी हिन्‍दी सेवा के लिए दिये जायेंगे। सम्‍मान स्‍वरूप सभी साहित्‍यकारों को प्रशस्ति पत्र , श्री नाथजी की हाथकलम की स्‍वर्णिम छवि, शान, उत्‍तरीय, श्रीनाथजी का प्रसाद व उपाधि भेंट की जाएगी।  
      इस समारोह में उत्‍तर प्रदेश, राजस्‍थान, मध्‍य प्रदेश, हरियाणा, दिल्‍ली, उत्‍तराखंड, पंजाब, तैलंगाना, बिहार, महाराष्‍ट्र, असम, केरल, पं0 बंगाल से पधारे लगभग 50 से अधिक साहित्‍यकारों को विभिन्‍न मानद उपाधियों से सम्‍मानित किया जायेगा। राजस्‍थान से लगभग 19 साहित्‍यकारों में कोटा के श्री जितेन्‍द्र निर्मोही को हिन्‍दी साहित्‍य विभूषण, डा0 रघुनाथ मिश्र 'सहज' को हिन्‍दी काव्‍य भूषण, डा0 मीताजी शर्मा को हिन्‍दी भाषा भूषण और डा0 गोपाल कृष्‍ण भट्ट 'आकुल' को हिन्‍दी साहित्‍य भूषण की मानद उपाधियों से सम्‍मानित किया जाएगा।
कोटा के श्री रामेश्‍वर शर्मा 'रामू भैया' हिन्‍दी की अंतर्राष्‍ट्रीयता पर अपना वाचन प्रस्‍तुत करेंगे तथा अन्‍य 'हिन्‍दी हुंकृत' के विषयों पर अपना काव्‍य प्रस्‍तुत करेंगे। डा0 आकुल का हिन्‍दी हुंकृत 'हिन्‍दी बने विश्‍व की भाषा, स्‍वाभिमान की है परिभाषा', 'हिन्‍दी सबको प्‍यारी होगी, इसकी छवि उजियारी होगी' उनके ब्‍लॉग 'सान्निध्‍य' पर पढ़ा जा सकता है।
   

शुक्रवार, 14 अगस्त 2015

सान्निध्य: तिरंगा



सान्निध्य: तिरंगा: तिरंगा, अपने देश की आन, बान और शान है। अपने गौरवशाली कल की इक पहचान है। इसका वन्‍दन करते हैं हम सब भारतवासी,  यह आज़ादी का परचम ग...