रविवार, 18 नवंबर 2012

जलेस राज्‍य परिषद् की बैठक जयपुर में सम्‍पन्‍न


कोटा।  जनवादी लेखक संघ, राजस्थान राज्य परिषद् की बैठक 11/11/12 को पूर्वान्ह 11 बजे, बी-4, एम0एल0ए0  क्वाटर्स , जयपुर में संपन्न हुई।  कोटा के वरिष्ट साहित्यकार, जलेस जिलाध्यक्क्ष , राज्य कमेंटी व् केन्द्रीय परिषद् सदस्य, जन कवि  डा रघुनाथ मिश्र ( जो राजस्थान राज्य कमिटी की और से कोटा  संभाग के प्रभारी भी हैं )  ने उक्त बैठक में भाग लेकर लौटने पर प्रेस के लिए जारी एक विज्ञप्ति में बताया की उक्त बैठक विजेंद्र  की अध्यक्षता  और राज्य सचिव राजेन्द्र  साईवाल  के सञ्चालन में संपन्न हुई।  मुख्य अतिथि थे संघ के राष्ट्रीय महासचिव डा चंचल चौहान।

डा मिश्र  ने बताया की बैठक में अनेक महत्वपूर्ण  निर्णय सर्वसम्मति से लिए गए, जिसके अनुसार संघ का मुखपत्र  'एक और अंतरीप'  त्रैमासिक  पुनः शुरू की जाय अथवा  प्रख्यात साहित्यकार विजेंद्र द्वारा  लम्बे समय से स्वयं  के सम्पादन में प्रकाशित  त्रैमासिक पत्रिका ' कृति ओर'  जलेस के मुखपत्र के रूप में भी चलाये जाने की  पेशकश  भी बैठक में विजेंद्र ने की।  सर्वसम्मति से दोनों में से  एक को मुखपत्र के रूप में प्रभावी  तरीके से प्रकाशित किये जाने के निर्णय के साथ ही  सहकारी आधार पर पुस्तक प्रकाशन की  श्रृंखला भी शुरू करने का सर्वसम्मत निर्णय लिया गया। प्रकाशनों  में स्थापित- प्रतिष्ठित -सर्वज्ञात साहित्यकारों के साथ साथ जलेस से जुड़े रूचि रखने वाले अन्य व् नवोदित साहित्यकारों को भी स्थान देकर प्रोत्साहित किया जाना तय किया गया। राज्य की सभी जिला व निचली इकाइयों  को सक्रिय करने पर विशेष बल दिया गया।

जिला सम्मलेन व तदुपरांत राज्य सम्मलेन यथाशीघ्र किये जाने सहित राज्य भर में जलेस को अनेक गतिविधियों के जरिये सक्रीय करने, नए लेखकों को संगठन  से जोड़ने, अल्पसंख्यक, राजस्थानी, महिला लेखकों को अधिकाधिक प्रोत्साहन देने के प्रभावी तरीके अपनाए जाने व पूरे वर्ष 2013 का कार्यक्रम कैलेण्डर भी बनाया जाना निर्णीत हुआ। प्रेम चद, सफ़दर हाशमी, नागार्जुन, निराला, हरीश भादानी, जमना प्रसाद ठाड़ा 'राही', विपिन मणि   सहित प्रख्यात दिवंगत  साहित्यकारों के जन्मदिवस पर बड़े-छोटे, जो संभव हो, आयोजन  किये जाने का सर्वसम्मत प्रस्ताव लिया  गया।
डा0 चंचल चौहाचौहान ने पूरे देश  में जलेस गतिविधियों पर विस्तृत प्रकाश डाला। संगठन का, राज्य के लिए ब्लॉग चलाये जाने का सर्वसम्मत निर्णय लिया गया, जिसकी जिम्मेदारी राघवेन्द्र रावत ने ली।
प्रस्‍तुति - गोपाल कृष्ण भट्ट' आकुल'

1 टिप्पणी:

  1. प्रभावी समाचार प्रस्तुति के लिए 'आकुल को बधाई व शुभ कामना.
    डा. रघुनाथ मिश्र

    उत्तर देंहटाएं